2022 Neeraj Chopra Biography, Javelin Throw in Hindi (नीरज चोपड़ा का जीवन परिचय भाला फेंक एथलीट ओलंपिक )

0
263
नीरज चोपड़ा का जीवन परिचय भाला फेंक एथलीट ओलंपिक, 2022 Neeraj Chopra Biography, Javelin Throw in Hindi, नीरज चोपड़ा का जीवन परिचय, बायोग्राफी, भाला फेंक एथलीट, रिकॉर्ड, टोक्यो ओलंपिक, गोल्ड मैडल विजेता, शेड्यूल, जाति, धर्म, किस समाज से है, कहां के रहने वाले है, संबंधित खेल, हाईट, भाले का वजन, जन्म कब गया था ,Neeraj Chopra Biography, Javelin Throw in Hindi, Tokyo Olympic 2021, Gold Medal, Personal Best, Best Throw, World Ranking, Height, Record, Salary, Religion, Caste,Neeraj Chopra Biography in hindi,Neeraj Chopra Biography in hindi, wikiluv, wikiluv.net, www.wikiluv.net, विकिलव

Tokyo Olympics 2021 के बाद नीरज चोपड़ा को आखिर कौन नहीं जानना चाहता है।ऐसा ही शायद कोई होगा जिसे नीरज चोपड़ा के बारे में नहीं जानना चाहता हों। दोस्तों आज के इस लेख के माध्यम से हम आप सभी को नीरज चोपड़ा का जीवनपरिचय के (Neeraj Chopra Biography in hindi) बारे में संपूर्ण जानकारी देंगे। यदि आप चाहें तो Neeraj Chopra का जीवन परिचय आपके भी जीवन के लिए प्रेणना दायक सिद्ध हों सकती हैं।

नीरज चोपड़ा भारत के जेवलिन थ्रो यानि कि भाला फेंक खिलाड़ी है। जिन्होंने हाल ही में Tokyo Olympics 2021 में भारत का प्रतिनिधित्व करते हुए बेहतरीन जैवलिन थ्रो करते हुए फाइनल में अपनी जगह बनाते हुए स्वर्ण पदक अपने नाम कर लिया है। और अपना एवं भारत का नाम इतिहास के पन्नों में दर्ज कर लिया है. उन्होंने फाइनल में अपने पहले ही प्रयास में 87.58 मीटर की दूरी फेंक कर एक रिकॉर्ड सेट कर लिया था जिसे कोई भी पार नहीं कर सका। इनके भाला फेंक में बेहतरीन प्रदर्शन करने के कारण उन्हें आर्मी में भी शामिल किया गया है। जिसके कारण वे अपने घर के लिए आजीविका का साधन बन गये हैं, आइये इनके जीवन के बारे में आपको विस्तार से बताते हैं।

नीरज चोपड़ा का जीवन परिचय (Neeraj Chopra Biography in Hindi)

नाम – नीरज चोपड़ा

जन्म – 24 दिसंबर, 1997

जन्म स्थान – पानीपत हरियाणा

उम्र – 23 साल

माता – सरोज देवी

पिता – सतीश कुमार

नेटवर्थ – लगभग 5 मिलियन डॉलर

शिक्षा – स्नातक

कोच – उवे होन

संपूर्ण विश्व में रैंकिंग – 4

पेशा – जैवलिन थ्रो

धर्म – हिन्दू

जाति – हिन्दू रोर मराठा

नीरज चोपड़ा का जन्म एवं परिवार (Birth and Family)

भाला फेंक एथलीट नीरज चोपड़ा का जन्म सन 1997 में 24 दिसंबर को भारत देश के हरियाणा राज्य के पानीपत शहर में हुआ था। नीरज चोपड़ा के पिता का नाम सतीश कुमार है और इनकी माता का नाम सरोज देवी है। नीरज चोपड़ा की दो बहने भी हैं। भाला फेंक एथलीट नीरज चोपड़ा के पिता जी हरियाणा राज्य के पानीपत जिले के एक छोटे से गांव खंडरा के किसान हैं, जबकि इनकी माताजी हाउसवाइफ है। नीरज चोपड़ा के कुल 5 भाई बहन हैं, जिनमें से यह सबसे बड़े हैं।

नीरज चोपड़ा की शिक्षा (Neeraj Chopra’s Education)

भाला फेंक खिलाड़ी नीरज चोपड़ा ने अपनी प्रारंभिक पढ़ाई हरियाणा से ही की है। प्राप्त जानकारी के अनुसार इन्होंने ग्रेजुएशन तक की डिग्री प्राप्त की है। अपनी प्रारंभिक पढ़ाई को पूरा करने के बाद नीरज चोपड़ा ने बीबीए कॉलेज ज्वाइन किया था और वहीं से उन्होंने ग्रेजुएशन की डिग्री हासिल की थी।

नीरज चोपड़ा के कोच (Neeraj Chopra’s Coach)

नीरज चोपड़ा के कोच का नाम उवे होन हैं जो कि जर्मनी देश के पेशेवर जैवलिन एथलीट रह चुके हैं। इनसे ट्रेनिंग लेने के बाद ही नीरज चोपड़ा इतना अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं.

नीरज चोपड़ा उम्र एवं व्यक्तिगत जानकारी (Neeraj Chopra’sAge and Personal Detail)

 

भाला फेंक खिलाड़ी नीरज चोपड़ा की वर्तमान में 23 साल उम्र है, हालांकि उन्होंने अभी तक शादी नहीं की है। यह अभी अपना पूरा ध्यान सिर्फ अपनी मंजिल की ओर लगा रहे हैं। नीरज चोपड़ा के लव अफेयर के बारे में भी हमें कोई जानकारी प्राप्त नहीं है।

नीरज चोपड़ा करियर भाला फेंक एथलीट (Javelin Throw Athlete)

भाला फेक खिलाड़ी नीरज चोपड़ा ने सिर्फ 11 साल की उम्र में ही भाला फेंकना प्रारंभ कर दिया था। नीरज चोपड़ा ने अपनी ट्रेनिंग को और भी ज्यादा मजबूत बनाने के लिए साल 2016 में एक ऐसा रिकॉर्ड बनाया जो इनके लिए काफी फायदेमंद साबित हुआ। नीरज चोपड़ा ने साल 2014 में अपने लिए एक भाला खरीदा था, जो ₹7000 का था। इसके बाद नीरज चोपड़ा ने इंटरनेशनल लेवल पर खेलने के लिए ₹1,00000 का भाला खरीदा था। नीरज चोपड़ा ने साल 2017 में एशियाई चैंपियनशिप में 50.23 मीटर की दूरी तक भाला फेंक कर मैच को जीता था। इसी साल उन्होंने आईएएएफ डायमंड लीग इवेंट में भी हिस्सा लिया था, जिसमें वह सातवें स्थान पर रहे थे। इसके बाद नीरज चोपड़ा ने अपने कोच के साथ काफी कठिन ट्रेनिंग चालू की और उसके बाद इन्होंने नए-नए कीर्तिमान स्थापित किए।

नीरज चोपड़ा को मिले हुए पुरस्कार (Medal and Award)

साल –               मैडल व पुरस्कार

2012 – राष्ट्रीय जूनियर चैंपियनशिप गोल्ड मेडल

2013 – राष्ट्रीय युवा चैंपियनशिप रजत पदक

2016 – तीसरा विश्व जूनियर अवार्ड

2016 – एशियाई जूनियर चैंपियनशिप रजत                   पदक

2017 – एशियन एथलेटिक्स चैंपियनशिप गोल्ड

मेडल

2018 – एशियाई खेल चैंपियनशिप स्वर्ण गौरव

2018 – अर्जुन पुरस्कार

नीरज चोपड़ा रिकॉर्ड (Record)

साल 2012 में लखनऊ में आयोजित हुए अंडर 16 नेशनल जूनियर चैंपियनशिप में नीरज चोपड़ा ने 68.46 मीटर भाला फेंक कर गोल्ड मेडल को हासिल किया जाता है।

नेशनल यूथ चैंपियनशिप में नीरज चोपड़ा ने साल 2013 में दूसरा स्थान हासिल किया था और उसके बाद उन्होंने आईएएएफ वर्ल्ड यूथ चैंपियनशिप में भी पोजिशन बनाई थी।

नीरज चोपड़ा ने इंटर यूनिवर्सिटी चैंपियनशिप में 81.04 मीटर थ्रो फेंककर एज ग्रुप का रिकॉर्ड अपने नाम किया था। यह प्रतियोगिता साल 2015 में आयोजित हुई थी।

नीरज चोपड़ा ने साल 2016 में जूनियर विश्व चैंपियनशिप में 86.48 मीटर भाला फेंक कर नया रिकॉर्ड स्थापित किया था और गोल्ड मेडल हासिल किया था।

साल 2016 में नीरज चोपड़ा ने दक्षिण एशियाई खेलों में पहले राउंड में ही 82.23 मीटर की थ्रो फेंककर गोल्ड मेडल को प्राप्त किया।

साल 2018 में गोल्ड कोस्ट में आयोजित हुए कॉमनवेल्थ खेल में नीरज चोपड़ा ने 86.47 मीटर भाला फेंक कर एक और गोल्ड मेडल अपने नाम किया।

साल 2018 में ही नीरज चोपड़ा ने जकार्ता एशियन गेम में 88.06 मीटर भाला फेका और गोल्ड मेडल जीतकर इंडिया का नाम रोशन किया।

नीरज चोपड़ा एशियन गेम्स में गोल्ड मेडल प्राप्त करने वाले पहले इंडियन जैवलिन थ्रोअर हैं।इसके अलावा एक ही साल में एशियन गेम और कॉमनवेल्थ गेम में गोल्ड मेडल हासिल करने वाले नीरज चोपड़ा दूसरे खिलाड़ी हैं। इसके पहले साल 1958 में मिल्खा सिंह द्वारा यह रिकॉर्ड बनाया गया था।

नीरज चोपड़ा Tokyo ओलंपिक 2020 (Tokyo Olympic Match 2020)

फाइनल मैच जोकि 7 अगस्त शाम 4:30 बजे आयोजित किया गया था. इस मैच में निईराज ने शानदार प्रदर्शन करते हुए स्वर्ण पदक अपने नाम कर लिया है. और भारत के इतिहास के पन्नों में अपना नाम दर्ज कर लिया है. इन्होने फाइनल मुकाबले में 6 राउंड में से पहले 2 राउंड में ही 87.58 की सबसे ज्यादा डिस्टेंस का रिकॉर्ड सेट कर दिया था, जिसे अगले 4 राउंड में कोई भी खिलाड़ी नहीं तोड़ सका. और अंत में नीरज की पोजीशन पहले नंबर पर ही बनी रही और वे स्वर्ण पदक अपने नाम कर गए.

भाला फेंक एथलीट नीरज चोपड़ा ने बुधवार को टोक्यो ओलंपिक में परफेक्ट जैवलिन थ्रो कर फाइनल में अपनी जगह बनाई और ट्रैक एंड फील्ड में ओलंपिक का पहला मेडल दिलाने के लिए अपनी दावेदारी को प्रस्तुत किया। नीरज चोपड़ा 86.65 मीटर की कोशिश के साथ क्वालिफिकेशन में टॉप पर रहते हुए ओलंपिक फाइनल में अपनी पोजीशन बनाने वाले पहले इंडियन जैवलिन प्लेयर बने। जिसके कारण नीरज चोपड़ा से देश को Gold Medal की आस जगी है।

नीरज चोपड़ा ओलंपिक शेड्यूल (Olympic Schedule)

जैवलिन थ्रो में ग्रुप ए और ग्रुप बी से 83.50 मीटर क्वालीफिकेशन लेवल को प्राप्त करने वाले खिलाड़ियों के साथ टॉप 12 खिलाड़ी फाइनल में अपनी पोजीशन बनाएंगे। फाइनल मैच 7 अगस्त 4:30 बजे होगा।

नीरज चोपड़ा बेस्ट थ्रो (Best Throw)

नीरज का अब तक का सबसे बेस्ट थ्रो आज के टोक्यो ओलंपिक के भाला फेंक के फाइनल मैच में 87.58 डिस्टेंस का है.

इससे पहले नीरज चोपड़ा, जो ग्रुप में 15 वें स्थान पर भाला फेंक रहे थे, ने 86.65 मीटर का थ्रो फेंका और अपने पहले प्रयास के बाद ही फाइनल के लिए क्वालीफाई कर लिया। फ़िनलैंड के लस्सी एटेलटालो एक और थ्रोअर थे, जिन्होंने पहली कोशिश में ऑटोमेटिकली रूप से क्वालीफाई कर लिया।

नीरज चोपड़ा वर्ल्ड रैंकिंग (World Ranking)

नीरज चोपड़ा की वर्तमान में विश्व रैंकिंग जैवलिन थ्रो की कैटेगरी में चौथे स्थान पर है। इसके अलावा वे कई मैडल एवं पुरस्कार भी जीत चुके हैं.

नीरज चोपड़ा वेतन, नेटवर्थ (Salary and Net Worth)

वर्तमान के समय में नीरज चोपड़ा जेएसडब्ल्यू स्पोर्ट्स टीम में शामिल है। इन्हे स्पोर्ट्स ड्रिंक की फेमस कंपनी गोटोरेड के द्वारा ब्रांड एंबेसडर के तौर पर सिलेक्ट किया गया है। नीरज चोपड़ा की कुल संपत्ति की बात की जाए तो इनकी कुल संपत्ति 5 मिलियन डॉलर के आसपास है।

नीरज चोपड़ा की सैलरी के बारे में कोई जानकारी सामने नहीं आई है, हालांकि इनकी विभिन्न पुरस्कारों से काफी अच्छी इनकम हो जाती है।

नीरज चोपड़ा आर्मी ऑफिसर (Neeraj Chopra Army Officer)

नीरज चोपड़ा एक एथिलीट बनने से पहले भारतीय सेना में एक सूबेदार के रूप में कार्यरत थे. वे इसमें जूनियर कमीशन्ड ऑफिसर थे, उस समय उनकी उम्र मात्र 19 साल थी. और वे इतनी उम्र में राजपूताना राइफल्स चलाया करते थे.

नीरज चोपड़ा इतिहास में अपना नाम दर्ज किया

भारत को पहली बार ओलंपिक में भाला फेंक में स्वर्ण पदक हासिल हुआ है. इसके लिए भारत को कोई भी मैडल इसके लिए नहीं मिला है.

सन 2008 में निशानेबाजी में अभिनव बिंद्रा ने भारत के लिए व्यक्तिगत रूप से पहला स्वर्ण पदक जीता था. जिसके बाद आज दूसरी बार नीरज चोपड़ा भाला फेंक में व्यक्तिगत रूप से स्वर्ण पदक अपने नाम करने वाले दुसरे भारतीय बन गये हैं.

भारत को 13 साल बाद ओलंपिक खेलों में स्वर्ण पदक जीतने वाले भारतीय नीरज चोपड़ा हैं.

नीरज ट्रैक एंड फील्ड इवेंट में भारत के लिए ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीतने वाले पहले भारतीय एथिलीट बन गये हैं.

भारत ने आज से 121 साल पहले एथलेटिक्स में पहला पदक जीता था. इसके बाद आज नीरज चोपड़ा ने एथलेटिक्स में स्वर्ण पदक जीत कर इतिहास में अपना नाम दर्ज कर लिया है.

नीरज चोपड़ा Reward

नीरज चोपड़ा Reward

नीरज चोपड़ा के टोक्यो ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीतने के बाद न सिर्फ नीरज इससे बहुत खुश है बल्कि पूरे भारत में खुशी की लहर दौड़ रही है. प्रधानमंत्री मोदी जी, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, एवं विभिन्न राज्य मंत्री के साथ ही सभी देशवासी नीरज को उनकी जीत के लिए बधाई दे रहे हैं. इसी के चलते उन्हें अलग – अलग जगह से विभिन्न ईनाम देने की घोषणा की जा रही है. जोकि इस प्रकार है –

हरियाणा राज्य में रहने वाले नीरज को हरियाणा की सरकार ने 6 करोड़ रूपये नकद ईनाम सरकारी नौकरी एवं आधी कीमत पर जमीन देने का फैसला किया है

देश के लिए गोल्ड मैडल जीतने के लिए नीरज चोपड़ा को पंजाब सरकार ने 2 करोड़ रोये नगद राशि देने का ऐलान किया है.

इसके अलावा पंजाब सरकार ने यह भी एलान किया है कि ओलंपिक पदक विजेता खिलाडियों के नाम पर पंजाब के विभिन्न स्कूलों एवं सडकों का नाम रखा जायेगा.

नीरज को गोरखपुर नगर निगम की ओर से 1 लाख रूपये का ईनाम दिया जायेगा. और साथ ही भारत लौटने पर उनका भव्य स्वागत भी किया जायेगा.

इसके साथ ही BCCI ने भी यह घोषणा की है कि वे भारत के लिए टोक्यो ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीतने वाले नीरज चोपड़ा को 1 करोड़ रूपये का नगद ईनाम वितरित करेंगे.

आईपीएल टीम चेन्नई सुपर किंग्स फ्रैंचाइज़ी के मालिक ने भी नीरज को 1 करोड़ रूपये का ईनाम देने का फैसला किया है.

इंडिगो कंपनी ने नीरज चोपड़ा को 1 साल के लिए अनलिमिटेड फ्री ट्रेवल देने की भी घोषणा की है.

इस तरह से नीरज चोपड़ा ने भारत का नाम अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर रोशन कर दिया है. ज्सिके चले आज भारत का हर एक नागरिक गर्व महसूस कर रहा है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.