Karwa Chauth 2021: करवा चौथ कब हैं? शुभ योग, जानें तिथि, पूजा मुहूर्त व चांद निकलने का समय, पूजा विधि और कथा

0
374
Karwa Chauth 2021,कब रखा जाएगा अखंड सौभाग्य का व्रत करवा चौथ?, करवा चौथ पूजन विधि, करवा चौथ में अद्भुत संयोग क्या है,Karwa Chauth 2021 Date, साल 2021 का करवा चौथ व्रत , करवा चौथ व्रत की पूजा, करवा चौथ पर विशिष्ट संयोग कब उत्तम होता है, Karwa Chauth 2021 Date Special Muhurt, सुहागिन महिलाओं में करवा चौथ व्रत, Karwa Chauth 2021, 2021 में जानें कब मनाया जाएगा करवा चौथ, करवा चौथ पूजन विधि, करवा चौथ कथा, करवा चौथ व्रत की विधि, करवा चौथ में चंद्रोदय का समय,करवा चौथ का यह गीत सुनकर पत्नियां हुई भाबुक, Karwa Chauth Special , Puja Srivastav, करवा चौथ का यह गीत सुनकर पत्नियां हुई भाबुक , Karwa Chauth Special , Puja Srivastav , Karwa Chauth , करवा चौथ 2021 , karwa chauth , karva chauth , karwa chauth song , karwa chauth katha , Mehndi Piya Ke Naam Ki , Karwa Chauth Ka Vrat Manaugi , karwa chauth special , bhakti gana , bhakti songs hindi , bhakti song , पत्नियां हुई भाबुक , rathore cassette bhajan , rathore cassette song , Rathore Bhakti , Rathore Cassettes Rathore Cassettes, Rathore Bhakti, Sri Shyam, Shri Bhagwan, Lord, God, Bhagwan, Jai, Jay, Karma, Peace, Value, Sanskar, Hindu, Religion, Sect, Bhajan, Aarti, Song, Chalisa, Praise, Mantra, Meditation, Mind, Enlightenment, Devotional, Guru, Guide, Divine, Force, Temple, Yoga, Dance, Pooja, Archana, Hare, Healing, Master, Teaching, Sanskrit, India, Culture, Daily, Life, Prayer, Ram, Sita, Shiva, Shankar, Ganesh, Ganpati, Krishna, Laxmi, Saraswati, Hanuman, Sai Baba, Kali, Durga, Ambe, Shreenathji, Maa, Hindi, MP3, Download, Stotra, Vishnu, Mahalaxmi, Ramayan, Gayatri, Free, Album, Sangraha, Shree Shyam Khatu, What is meant by Karwa Chauth?, The Karva Chauth festival, which takes place annually, is practiced by Hindu and some Sikh people in Northern India, Gujarat and parts of Pakistan, where women get married easily from the sunrise to the moonrise, for their husbands ' protection and survive, wikiluv, विकिलव, www.wikiluv.com, wikiluv.com

Karwa Chauth 2021: करवा चौथ कब हैं? शुभ योग, जानें तिथि, पूजा मुहूर्त व चांद निकलने का समय, पूजा विधि और कथा, आज के इस लेख के माध्यम से सम्पूर्ण जानकारी देंगे।

Karwa chauth 2021 Date (करवा चौथ व्रत 2021)

कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को मनाया जाता हैं। हिन्दू धर्म में यह पर्व सुहागिन स्त्रियों के लिए सबसे बड़ा पर्व हैं। महिलाएं, करवा चौथ पर निर्जल व्रत कर अखंड सौभाग्य होने और पति के लंबी आयु की कामना करती हुई रखती हैं। इस दिन व्रत रखकर शाम को माता पार्वती, भगवान शिव, गणेश जी, भगवान कार्तिकेय और चंद्रमा की पूजा करती है। पति और चांद दोनों की साथ पूजा, आरती कर छलनी से चांद और पति का मुखड़ा देखती हैं, और चांद को अर्घ्य देने के बाद ही अपना व्रत खोलती हैं।

करवा चौथ कब है (Karwa Chauth kab hai 2021)

इस साल का करवा चौथ (चतुर्थी) 24 अक्टूबर 2021 दिन रविवार को पड़ रही है। परन्तु इस साल के करवा चौथ में खास बात यह है कि पांच साल बाद इस बार करवा चौथ का पूजन रोहिणी नक्षत्र में होगा जो कि बेहद ही शुभ है और साथ ही साथ रविवार का दिन होने से व्रत रखने वाली सुहागिन स्त्रियों को सूर्यदेव का भी भरपूर आशीर्वाद मिलेगा।
क्योंकि, रविवार का दिन सूर्य देव को समर्पित है। सूर्य देव के आरोग्य और दीर्घायु का आशीर्वाद प्रदान करते हैं। इस दिन महिलाएं सूर्य देव का पूजन कर पति की दीर्घायु की कामना करें। शुभ मुहूर्त में पूजन करने से व्रती महिलाओं की हर इच्छा पूरी होगी।

शुभ मुहूर्त (Karwa Chauth shubh muhurat 2021)

इस बार के करवा चौथ (karwa chauth) में चांद रोहिणी नक्षत्र में निकलेगा और पूजन होगा। कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि इस साल 24 अक्टूबर 2021, रविवार सुबह 3 बजकर 1 मिनट पर शुरू होगी, जो अगले दिन 25 अक्टूबर को सुबह 5 बजकर 43 मिनट तक रहेगी। इस दिन चांद निकलने का समय 8 बजकर 11 मिनट पर है। पूजन के लिए शुभ मुहूर्त 24 अक्टूबर 2021 को शाम 06:55 से लेकर 08:51 तक रहेगा।

करवा चौथ व्रत की पूजा विधि (Karwa Chauth 2021 puja vidhi)

सुबह सूर्योदय से पहले उठकर स्नान कर लें। इसके बाद सरगी के रूप में मिला हुआ भोजन करें, पानी पीएं और गणेश जी और माता पार्वती का सिमरण करके निर्जला व्रत का संकल्प लें। इसके बाद शाम तक न तो कुछ खाना और नाहीं पीना है। पूजा के लिए शाम के समय एक मिट्टी की वेदी पर सभी देवताओं की स्थापना कर इसमें करवा रखें। एक थाली में धूप, दीप, चन्दन, रोली, सिन्दूर रखें और घी का दीपक जलाएं. पूजा चांद निकलने के एक घंटे पहले शुरु कर दें। उसके बाद छलनी के अंदर से चंद्रमा का दर्शन करें हैं और फिर अर्घ्य देकर व्रत खोलें।

Katha Karwa Chauth katha (करवा चौथ की katha)

बहुत समय पहले की बात है, एक साहूकार के सात बेटे और उनकी एक बहन करवा थी। सभी सातों भाई अपनी बहन से बहुत प्यार करते थे। यहां तक कि वे पहले उसे खाना खिलाते और बाद में स्वयं खाते थे। एक बार उनकी बहन ससुराल से मायके आई हुई थी।
शाम को भाई जब अपना व्यापार-व्यवसाय बंद कर घर आए तो देखा उनकी बहन बहुत व्याकुल थी। सभी भाई खाना खाने बैठे और अपनी बहन से भी खाने का आग्रह करने लगे, लेकिन बहन ने बताया कि उसका आज करवा चौथ का निर्जल व्रत है और वह खाना सिर्फ चंद्रमा को देखकर उसे अर्घ्‍य देकर ही खा सकती है। चूंकि चंद्रमा अभी तक नहीं निकला है, इसलिए वह भूख-प्यास से व्याकुल हो उठी है।
सबसे छोटे भाई को अपनी बहन की हालत देखी नहीं जाती और वह दूर पीपल के पेड़ पर एक दीपक जलाकर चलनी की ओट में रख देता है। दूर से देखने पर वह ऐसा प्रतीत होता है कि जैसे चतुर्थी का चांद उदित हो रहा हो।

इसके बाद भाई अपनी बहन को बताता है कि चांद निकल आया है, तुम उसे अर्घ्य देने के बाद भोजन कर सकती हो। बहन खुशी के मारे सीढ़ियों पर चढ़कर चांद को देखती है, उसे अर्घ्‍य देकर खाना खाने बैठ जाती है।
वह पहला टुकड़ा मुंह में डालती है तो उसे छींक आ जाती है। दूसरा टुकड़ा डालती है तो उसमें बाल निकल आता है और जैसे ही तीसरा टुकड़ा मुंह में डालने की कोशिश करती है तो उसके पति की मृत्यु का समाचार उसे मिलता है। वह बौखला जाती है।

उसकी भाभी उसे सच्चाई से अवगत कराती है कि उसके साथ ऐसा क्यों हुआ। करवा चौथ का व्रत गलत तरीके से टूटने के कारण देवता उससे नाराज हो गए हैं और उन्होंने ऐसा किया है।

सच्चाई जानने के बाद करवा निश्चय करती है कि वह अपने पति का अंतिम संस्कार नहीं होने देगी और अपने सतीत्व से उन्हें पुनर्जीवन दिलाकर रहेगी। वह पूरे एक साल तक अपने पति के शव के पास बैठी रहती है। उसकी देखभाल करती है। उसके ऊपर उगने वाली सूईनुमा घास को वह एकत्रित करती जाती है।
एक साल बाद फिर करवा चौथ का दिन आता है। उसकी सभी भाभियां करवा चौथ का व्रत रखती हैं। जब भाभियां उससे आशीर्वाद लेने आती हैं तो वह प्रत्येक भाभी से ‘यम सूई ले लो, पिय सूई दे दो, मुझे भी अपनी जैसी सुहागिन बना दो’ ऐसा आग्रह करती है, लेकिन हर बार भाभी उसे अगली भाभी से आग्रह करने का कह चली जाती है।

इस प्रकार जब छठे नंबर की भाभी आती है तो करवा उससे भी यही बात दोहराती है। यह भाभी उसे बताती है कि चूंकि सबसे छोटे भाई की वजह से उसका व्रत टूटा था अतः उसकी पत्नी में ही शक्ति है कि वह तुम्हारे पति को दोबारा जीवित कर सकती है, इसलिए जब वह आए तो तुम उसे पकड़ लेना और जब तक वह तुम्हारे पति को जिंदा न कर दे, उसे नहीं छोड़ना। ऐसा कह कर वह चली जाती है।
सबसे अंत में छोटी भाभी आती है। करवा उनसे भी सुहागिन बनने का आग्रह करती है, लेकिन वह टालमटोली करने लगती है। इसे देख करवा उन्हें जोर से पकड़ लेती है और अपने सुहाग को जिंदा करने के लिए कहती है। भाभी उससे छुड़ाने के लिए नोचती है, खसोटती है, लेकिन करवा नहीं छोड़ती है।

अंत में उसकी तपस्या को देख भाभी पसीज जाती है और अपनी छोटी अंगुली को चीरकर उसमें से अमृत उसके पति के मुंह में डाल देती है। करवा का पति तुरंत श्रीगणेश-श्रीगणेश कहता हुआ उठ बैठता है। इस प्रकार प्रभु कृपा से उसकी छोटी भाभी के माध्यम से करवा को अपना सुहाग वापस मिल जाता है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.